राढ़

विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी

संज्ञा

  1. झगड़ा, बखेड़ा, विरोध, खटपट, कलह, तकरार, दंगा, मनमुटाव, टकराव, वाद-विवाद

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

राढ़ ^१ वि॰ [हिं॰ राड़] दे॰ 'राड़' । उ॰— तुलसी तेरी भलाई अजहू बूझैं । राढ़उ राउत होत फिरि कै जूझै ।— तुलसी ग्रं॰, पृ॰ ५४६ । यौ॰—राढ़ रोर । उ॰— ऐसेउ साहब की सेवा सों होत चोर रे । आपनी ना बूझि ना कहे को राढ़ रोर रे ।— तुलसी ग्रं॰, पृ॰ ४९६ ।

राढ़ ‡ ^२ संज्ञा स्त्री॰ [सं॰ राटि (= लड़ाई)] रार । झगड़ा । उ॰— उन्हीं के किए सब धंधा गंदा हुआ । वह देतीं तो यह राढ़ क्यों बढ़ती ।— दुर्गाप्रसाद मिश्र (शब्द॰) ।