सामग्री पर जाएँ

अपर

विक्षनरी से

हिन्दी

विशेषण

अपर (apar)

  1. जो पर न हो। पहला।
  2. पिछला। जिससे कोई पर न हो।
  3. अन्यदूसराभिन्नकोई और
    उ॰ – अपर नाम उड़ुगण बिमल,बसे भक्त उर व्योम ।— भक्तमाल (श्री॰) पृ॰ ४९८।
  4. जिससे बढ़कर या बराबर का अन्य न हो (को॰)।
  5. जो दूसरा या पराया न हो। स्व- पक्षीय। अपना।
    उ॰—को गिनै अपर पर को गिनै । लोह छोह छक्के बरन ।—पृ॰ रा॰ ३३।२६।
  6. अश्रेष्ठ। जो पर अर्थात् श्रेष्ठ न हो। निकृष्ट। साधारण (को॰)।
  7. पश्चिमीपश्चिम दिशा का (को॰)।
  8. दूर का। दूरवर्ती। जो पास न हो (को॰)।

संज्ञा

अपर (aparm

  1. हाथी का पिछला भाग, जंघा, पैर आदि।
  2. रिपु। शत्रु।
  3. न्यायशास्त्र में सामान्य के दो भेदे में से एक।
  4. भविष्यत् काल या उस काल में किया जानेवाला कार्य [को॰]।

हिन्दी

प्रकाशितकोशों से अर्थ

शब्दसागर

अपर ^१ वि॰ [सं॰]

१. जो पर न हो । पहला । पूर्व का ।

२. पिछला । जिससे कोई पर न हो ।

३. अन्य । दूसरा । भिन्न । और । उ॰— अपर नाम उड़ुगण बिमल,बसे भक्त उर व्योम ।— भक्तमाल (श्री॰) पृ॰ ४९८ ।

४. जिससे बढ़कर या बराबर का अन्य न हो (को॰) ।

५. जो दूसरा या पराया न हो । स्व- पक्षीय । अपना । उ॰—को गिनै अपर पर को गिनै । लोह छोह छक्के बरन ।—पृ॰ रा॰ ३३ ।२६ ।

६. अश्रेष्ठ । जो पर अर्थात् श्रेष्ठ न हो । निकृष्ट । साधारण (को॰) ।

७. पश्चिमी । पश्चिम दिशा का (को॰) ।

८. दूर का । दूरवर्ती । जो पास न हो (को॰) ।

अपर ^२ संज्ञा पुं॰

१. हाथी का पिछला भाग, जंघा, पैर आदि ।

२. रिपु । शात्रु ।

३. न्यायशास्त्र में सामान्य के दो भेदे में से एक ।

४. भविष्यत् काल या उस काल में किया जानेवाला कार्य [को॰] ।