विक्षनरी से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दी[सम्पादन]

प्रकाशितकोशों से अर्थ[सम्पादन]

शब्दसागर[सम्पादन]

श हिंदी वर्णमाला में व्यंजन का तीसवाँ वर्ण । इसका उच्चारण प्रधानतया तालु का सहायता से होता है, इससे इसे तलव्य श कहते है । यह महाप्राण है और इसक उच्चारण में एक प्रकार का धषण होता है; इसलिय इस ऊष्म भी कहते हैँ । आभ्यंतर प्रयत्न के विचार से यह इषतस्पृष्ट है; और इसमे बाह्य प्रयत्न श्वास और घाष होता है ।

श संज्ञा पुं॰ [सं॰]

१. शिव ।

२. कल्याण । मंगल ।

३. शस्त्र । हथियार ।

४. विनाशक । काटनेवाला (को॰) ।

५. शास्त्र (को॰) ।

६. आनंद । सौख्य (को॰) ।